नवदुर्गा- संपूर्ण कथा पाँचवी स्कंदमाता | Navadurga

 मुख पृष्ठ  पोस्ट  नवदुर्गा  पाँचवी स्कंदमाता  नवदुर्गा- पाँचवी स्कंदमाता ।हिन्दी।।English। नवरात्रि का पाँचवाँ दिन दुर्गा देवी “स्कंदमाता” की उपासना का दिन होता है।

Read more

नवदुर्गा- संपूर्ण कथा चौथी कूष्माण्डा | Navadurga

नवरात्री पर्व में चौथे दिन “कूष्माण्डा” देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। इस दिन साधक का मन पुर्णत: ‘अदाहत’ चक्र में अवस्थित होता है। अपनी मन्द, हल्की हँसी के द्वारा अण्ड अर्थात ब्रह्माण्ड को उत्पन्न करने के कारण इस देवी को कुष्माण्डा नाम से अभिहित किया गया है।

Read more

नवदुर्गा- संपूर्ण कथा तीसरी चंद्रघंटा | Navadurga

नवरात्री पर्व में माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नाम “चंद्रघंटा” है। नवरात्रि उपासना में तीसरे दिन चंद्रघंटा की पूजा का अत्यधिक महत्व है नवरात्री मे इस दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन-आराधन किया जाता है। नवरात्र मे इस दिन साधक का मन ‘मणिपूर’ चक्र में प्रविष्ट होता है।

Read more

नवदुर्गा- संपूर्ण कथा द्वितीय ब्रह्मचारिणी | Navadurga

नवरात्री पर्व के दूसरे दिन माँ “ब्रह्मचारिणी” की पूजा-अर्चना की जाती है। साधक इस दिन अपने मन और ध्यान को माँ के चरणों में लगाते हैं। यदि विस्तार पूर्वक देखा जाये तो ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। इस प्रकार ब्रह्मचारिणी का अर्थ होता है तप का आचरण करने वाली।

Read more

नवदुर्गा- संपूर्ण कथा प्रथम शैलपुत्री | Navadurga

दुर्गाजी पहले स्वरूप में ‘शैलपुत्री‘ के नाम से ही जानी जाती हैं। यह ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं। शैलराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण ही इनका नाम ‘शैलपुत्री’ पड़ा। नवरात्र पूजन में प्रथम दिन इन्हीं देवी की पूजा और उपासना की जाती है।

Read more

How To Protect Your Termux With MNSLock

इस पोस्ट से, आप केवल एक कमांड का उपयोग करके पासवर्ड प्रोटेक्ट Termux के बारे में जानेंगे और इस पोस्ट के बाद, कोई भी आपकी अनुमति के बिना आपके Termux का उपयोग नहीं कर पाएगा। जब हम Termux का उपयोग करते है।

Read more

How To Install Wireshark In VNC Viewer

Wireshark एक प्रसिद्ध पेशेवर उपकरण है जो नेटवर्क के भीतर और कई फ़ायरवॉल नियमों के बीच कमजोरियों का पता लगा सकता है। और VNC viewer रिमोट डेस्कटॉप एप्लिकेशन है।

Read more

१०. सौप्तिकपर्व- महाभारत

में अश्वत्थामा, कृतवर्मा और कृपाचार्य- कौरव पक्ष के शेष इन तीन महारथियों का वन में विश्राम करना, तीनों की आगे के कार्य के विषय में विस्तार पूर्वक मत्रणा करना, अश्वत्थामा द्वारा रात्रि मे चोरी से पाण्डवों के शिविर में घुसकर समस्त सोये हुए पांचाल वीरों का संहार करना, द्रौपदी के पुत्रों का वध करना, द्रौपदी का विलाप तथा द्रोणपुत्र के वध का आग्रह करना, भीम द्वारा अश्वत्थामा को मारने के लिए प्रस्थान करना और श्रीकृष्ण, अर्जुन तथा युधिष्ठिर का भी भीम के पीछे जाना, गंगातट पर बैठे अश्वत्थामा को भीम द्वारा ललकारना, अश्वत्थामा द्वारा ब्रह्मास्त्र का प्रयोग करना, अर्जुन द्वारा भी उस ब्रह्मास्त्र के निवारण के लिए ब्रह्मास्त्र का प्रयोग करना, व्यास की आज्ञा से अर्जुन द्बारा ब्रह्मास्त्र का उपशमन करना, अश्वत्थामा की मणि को निकाल लेना आदि विषय इस पर्व में वर्णित है।

Read more

९. शल्यपर्व- महाभारत

में कर्ण की मृत्यु के पश्चात कृपाचार्य द्वारा सन्धि के लिए दुर्योधन को समझाना, सेनापति पद पर शल्य का अभिषेक करना, मद्रराज और शल्य का अदभुत पराक्रम, युधिष्ठिर द्वारा शल्य और उनके भाई का वध करना, सहदेव द्वारा शकुनि का वध करना, दुर्योधन का वहा से पलायन, युधिष्ठिर का दुर्योधन से संवाद करना, दुर्योधन के साथ भीम का वाग्युद्ध और गदा युद्ध करना और दुर्योधन का धराशायी होना, सेनापति पद पर अश्वत्थामा का अभिषेक आदि वर्णित है।

Read more

देवी सती के 51 शक्तिपीठ

हिन्दू धर्म में पुराणों का विशेष महत्‍व है। इन्‍हीं पुराणों में माता के शक्‍तिपीठों का भी वर्णन है। यदि पुराणों की ही मानें तो जहां-जहां देवी सती के अंग के टुकड़े, वस्‍त्र और गहने गिरे वहां-वहां मां के शक्‍तिपीठ बन गए। ये शक्तिपीठ पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में फैले हैं। देवी भागवत् में 108 शक्‍तिपीठों का वर्णन जबकि देवी गीता में 72 शक्तिपीठों का जिक्र है। एवं वहीं देवी पुराण में 51 शक्तिपीठ बताए गए हैं। आइए जानतें है कहां-कहां पर स्थित है ये शक्‍तिपीठ।

Read more

How To Use Hydra And Slowloris In Hindi

Hydra सबसे शक्तिशाली Termux टूल में से एक है जिसका उपयोग सेवाओं के उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड को बलपूर्वक क्रैक करने के लिए किया जाता है। जैसे telnet, ssh, FTP, आदि। Slowloris लो बैंडविड्थ डॉस हैकिंग ऐप है। यह टूल एक HTTP डेनियल ऑफ सर्विस अटैक करता है

Read more

How To Install Tor And Nmap In Hindi

वेब में गुमनाम रहने के लिए टोर ब्राउजर बहुत जरूरी है। टोर ब्राउज़र आपके आईपी को छिपाने के लिए उपयोगी है, इसलिए हैकिंग या पेन-टेस्टिंग जैसे कार्यों को करते समय कोई भी आपको ट्रैक नहीं कर सकता है।

Read more

८. कर्णपर्व- महाभारत

में द्रोणाचार्य की मृत्यु के पश्चात कौरव सेनापति के पद पर कर्ण का अभिषेक, कर्ण के सेनापतित्व में कौरव सेना द्वारा भीषण युद्ध, पाण्डवों के पराक्रम, शल्य द्वारा कर्ण का सारथि बनना, अर्जुन द्वारा कौरव सेना का भीषण संहार, कर्ण और अर्जुन का युद्ध, कर्ण के रथ के पहिये का पृथ्वी में धँसना, अर्जुन द्वारा कर्णवध, कौरवों का शोक, शल्य द्वारा दुर्योधन को सान्त्वना देना आदि वर्णित है। 

Read more

How To Use Termux In Hindi

।मुख पृष्ठ।।Termux Tutorial।।How To Use Termux। Termux कैसे उपयोग करें..? आपका इस पोस्ट पर आने का अर्थ है कि आपने

Read more

How To install Ngrok in Termux

Termux मे Ngrok को स्थापित करने के चरण यहां दिए गए हैं।  किसी भी प्रकार की त्रुटि से बचने के लिए कृपया एक-एक करके चरणों का ध्यानपूर्वक पालन करें। कृपया ध्यान दें कि आपको प्रत्येक आदेश के पूरा होने तक प्रतीक्षा करनी होगी।

Read more

७. द्रोणपर्व- महाभारत

में भीष्म के धराशायी होने पर कर्ण का आगमन और युद्ध करना, सेनापति पद पर द्रोणाचार्य का अभिषेक, द्रोणाचार्य द्वारा चक्रव्यूह का निर्माण, अभिमन्यु द्वारा पराक्रम और व्यूह में फँसे हुए अकेले नि:शस्त्र अभिमन्यु का कौरव महारथियों द्वारा वध, अभिमन्यु के वध से पाण्डव-पक्ष में शोक, कृष्ण द्वारा सहयोग का आश्वासन, अर्जुन का द्रोणाचार्य तथा कौरव-सेना से भयानक युद्ध, अर्जुन द्वारा जयद्रथ का वध, कर्ण द्वारा घटोत्कच का वध, धृष्टद्युम्न द्वारा द्रोणाचार्य का वध।

Read more

वाल्मीकि रामायण- बालकाण्ड सर्ग- ५

 मुख पृष्ठ  अखंड रामायण  वाल्मीकि रामायण  बालकाण्ड सर्ग- ५  ॥ 卐 ॥॥ श्री गणेशाय नमः ॥॥ श्री कमलापति नम: ॥॥ श्री जानकीवल्लभो विजयते

Read more

६. भीष्मपर्व- महाभारत

भीष्म पर्व में कुरुक्षेत्र में युद्ध के लिए सन्नद्ध दोनों पक्षों की सेनाओं में युद्धसम्बन्धी नियमों का निर्णय, संजय द्वारा धृतराष्ट्र को भूमि का महत्त्व बतलाते हुए जम्बूखण्ड के द्वीपों का वर्णन, शाकद्वीप तथा राहु, सूर्य और चन्द्रमा का प्रमाण, दोनों पक्षों की सेनाओं का आमने-सामने होना, अर्जुन के युद्ध-विषयक विषाद तथा व्याहमोह को दूर करने के लिए उन्हें उपदेश (श्रीमद्भगवद्गीता),

Read more

भगवान शिव का तांडव नृत्य

पुराणों के अनुसार सृष्टि के आरंभ में ब्रह्मनाद से जब शिव प्रकट हुए तो उनके साथ ‘सत’, ‘रज’ और ‘तम’ ये तीनों गुण भी जन्मे थे। यही तीनों गुण शिव के ‘तीन शूल’ यानी ‘त्रिशूल’ कहलाए। संगीत प्रकृति के हर कण में मौजूद है। भगवान शिव को ‘संगीत का जनक’ माना जाता है।

Read more

वाल्मीकि रामायण- बालकाण्ड सर्ग- ४

महर्षि वाल्मीकि का चौबीस हजार श्लोकों से युक्त रामायणकाव्य का निर्माण कर लव-कुशको पढ़ाना, लव और कुश का अयोध्या में श्रीराम द्वारा सम्मानित हो रामदरबार में रामायण गान सुनाना।

Read more

ब्रह्मा अवतार तथा ब्रह्माण्ड की रचना

सृष्टि के प्रारम्भ में भगवान नारायण के नाभिकमल से सर्व प्रथम ब्रह्मा जी का प्राकट्य हुआ। इसी से वे पद्मयोनि भी कहलाते हैं। नारायण की इच्छाशक्ति की प्रेरणा से स्वयं उत्पन्न होने के कारण ये स्वयम्भू भी कहलाते है।

Read more

भगवान नरसिंह और भक्त प्रहलाद कथा

बहुत पुरानी बात है, उस समय सत्ययुग चल रहा था। एक बार भगवान ब्रह्मा के मानस-पुत्र ऋषि सनकादि, जिनकी आयु हमेशा पंचवर्षीय बालक कीसी ही रहती है, वैकुण्ठ लोक में जा पहुँचे। वे भगवान् विष्णु के पास जाना चाहते थे

Read more