हिन्दू संस्कृति क्या है | What Is Hindu Sanskriti

हिन्दू संस्कृति

हिन्दू संस्कृति

॥ श्री गणेशाय नमः ॥
॥ श्री कमलापति नम: ॥
॥ श्री जानकीवल्लभो विजयते ॥
॥ श्री गुरूदेवाय नमः ॥
दान करें 🗳



हिन्दू संस्कृति

 मुख पृष्ठ हिन्दू संस्कृति 

हिन्दू संस्कृति

हिन्दू संस्कृति की सबसे बड़ी गुणवत्ता यह है कि यह अपने लोगों को पूजा करने की स्वतंत्रता देता है। दूसरी संस्कृतियों मे वहाँ के लोगों को ऐसी स्वतंत्रता नहीं दी। शायद यही कारण है कि हिन्दू संस्कृति को आध्यात्म के लिए सबसे उत्तम माना जाता है:

यह स्वंय शिवजी द्वारा माता जगदम्बा से कही गई एक पवित्र कथा है। आप भी विस्तार पूर्वक पढ़े:
शिव-शक्ति श्रीराम मिलन (संपूर्ण भाग) 🌞

यहाँ लोग स्वाभाविक रूप से सांसारिक सुखों से दूर जाकर और अंदरूनी आनंद की ओर ध्यान केंद्रित करने लगे। यही कारण है कि इस संस्कृति में ऐसी शक्तिशाली आध्यात्मिक प्रक्रियाएं विकसित हुईं।

आध्यात्मिक प्रक्रिया किसी भी संस्कृति में आकार ले सकती है, लेकिन यह आवश्यक है कि उस संस्कृति के लोगों की सांसारिक आवश्यकताएं पूरी हो चुकी हैं। आम तौर पर लोग सोचते हैं कि यदि उनके भोजन, रहने और पहनने की चिंता दूर हो जाए, और थोड़ी बहुत सुखद चीजें उनके पास आ जाए, तो कोई चिंता नहीं है। तब सब कुछ ठीक हो जाएगा। यहाँ तक कि जब इन सभी चीजों की व्यवस्था हो जाता है, तब भी व्यक्ति को अंदर से संतुष्टि महसूस नहीं होती है।

यह वह समय होता है जब व्यक्ति स्वयं को स्वाभाविक रूप से खोजने लगता है। यदि ऐसा होने लगता है, तो आपको एक ऐसी सामाजिक और सांस्कृतिक स्थिति की आवश्यकता होगी, जो लंबे समय तक बरकरार रहे और शांतिपूर्ण हो। यह एक ऐसी स्थिति है जो केवल हमारी भारतीय संस्कृति में ही रही है। अन्य सभी संस्कृतियाँ अधिकांश समय लड़ाई, युद्ध और अन्य को जीतने की कोशिश में ही लगी रही।

इस वजह से, वहाँ एक स्थायी समाज नहीं हो सकता था, लेकिन इसकी भारतीय संस्कृति में टिकाऊ सामाजिक और सांस्कृतिक परिस्थितियों का एक लंबा युग है। यहाँ लोग स्वाभाविक रूप से सांसारिक सुखों से परे गए और अंदरूनी आनंद की ओर ध्यान दिया। यही कारण है कि इस संस्कृति में इतनी शक्तिशाली आध्यात्मिक क्रियाएं विकसित हुई। ऐसी ही लाखों अलग-अलग तरीके हैं, जिसके माध्यम से आप अपनी अंतिम प्रकृति प्राप्त कर सकते हैं।

इस संस्कृति में, जीवन के हर पहलू, जिसमें सांस लेने, खाने, बैठने और खड़े होने जैसी साधारण चीजें शामिल हैं, जो एक आध्यात्मिक प्रक्रिया के रूप में विकसित हुईं। यहाँ मनुष्य की परम प्रकृति का बहुत व्यापक तरीके से अन्वेषण किया गया है। लेकिन दुर्भाग्य की बात यह है कि हमारी संस्कृति से जुड़ा बहुत कुछ खो गया है। वास्तव में हम इसे संरक्षित नहीं कर पाए हैं, लेकिन फिर भी यह एक जीवित संस्कृति है। आज भी इसके हजारों साल पुराने कुछ पहलू ऐसे हैं, जिन्हें जिंदा रखा गया है। प्रश्न यह है कि- आज मनुष्य के जीवन में ये पहलू कितने सजीव हैं? लेकिन यह सच है कि वे आज भी एक सूत्र के रूप में विद्यमान हैं।

यह एकमात्र ऐसी संस्कृति है, जिसका कोई धर्म नहीं है। यदि किसी धर्म ने अब यहां अपनी जगह बनाई है, तो यह बाहरी प्रभावों के कारण है। अन्यथा संस्कृति के रूप में यहाँ कोई धर्म नहीं है। हम अक्सर सनातन धर्म के बारे में बात करते हैं, जिसका अर्थ है कि सामान्य धर्म। जब हम सभी के धर्म के बारे में बात करते हैं, तो हम यह नहीं कहते कि सभी लोगों के लिए एक ही धर्म है। इसके बजाय, हमारी कहने का उद्देश्य यह है कि हम में से प्रत्येक का अपना धर्म है।

हिन्दू एक भौगोलिक पहचान है। जो कोई भी सिंधु नदी की भूमि पर या सिंधु घाटी सभ्यता में पैदा हुआ है वह एक हिंदू है। ऐसे में हो सकता है कि आप किसी पुरुष की पूजा करें, या फिर आप किसी महिला की पूजा करें। यह भी हो सकता है कि तुम सांप की पूजा करो, या तुम पत्थर की पूजा करो- लेकिन तुम हिंदू कहलाओगे। आप अपने पति, पत्नी या बच्चे की पूजा करते हुए भी हिंदू हो सकते हैं। यह भी हो सकता है कि आपने अपने जीवन में किसी की पूजा न की हो, लेकिन इस स्थिति में भी आप हिन्दू ही रहेंगे। इसलिए हिंदू होने का संबंध किसी धर्म विशेष से नहीं है।

हिन्दू कोई धर्म नहीं है। यह सिर्फ एक संभावना है। यहाँ हर कोई कुछ भी करने के लिए स्वतंत्र है। हमारे अलावा और कोई संस्कृति नहीं है जिसने अपने लोगों को इतनी आजादी दी हो। अन्य सभी संस्कृतियों में इस बात पर बल दिया जाता था कि लोगों को किसी न किसी पर विश्वास होना चाहिए, जो उस संस्कृति में प्रभावशाली हो। यदि कोई उस पर विश्वास नहीं करता था तो उसे स्वत: ही उस सभ्यता का शत्रु मान लिया जाता था। इस अपराध के लिए उन्हें या तो सूली पर चढ़ाया गया या जला दिया गया।

लेकिन हमारे देश में इस तरह की प्रताड़ना की परंपरा कभी नहीं रही, क्योंकि किसी की कोई खास राय नहीं होती। अपने ही घर के अंदर देखो। पति किसी देवता की पूजा करता है, पत्नी किसी और की और बच्चे किसी और की। इससे किसी को कोई समस्या नहीं है। हर कोई अपनी हिसाब से चल सकता है। लेकिन इस संस्कृति की सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हर कोई अपनी मुक्ति के लिए प्रयास करता है।

मित्रों आपको हमारा यह लेख कैसा लगा.?? कृपया हमे अवस्य बताए।

अखंड रामायण / श्री भगवद् गीता

अपना बिचार व्यक्त करें।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.