प्राचीन श्री हनुमान प्रश्नावली

प्राचीन श्री हनुमान प्रश्नावली

प्राचीन श्री हनुमान प्रश्नावली

 मुख पृष्ठ  प्राचीन श्री हनुमान प्रश्नावली 

प्राचीन श्री हनुमान प्रश्नावली

प्राचीन श्री हनुमान प्रश्नावली

श्री हनुमान प्रश्नावली की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि प्रश्न पूछते समय आपको यह विश्वास होता है कि श्री हनुमान जी आज भी जीवित हैं। यदि आप भगवान श्री राम जी का नाम लेकर श्री हनुमान जी को स्मरण करेंगे और उनसे प्रश्न करेंगे तो वे अवश्य आपके पास आकर आपका मार्गदर्शन करेंगे। यदि आप सच्चे मन से श्रद्धा पूर्वक उन्हें याद करते हैं तो आप उन्हें अपने आसपास अनुभव भी कर सकते हैं।

यह स्वंय शिवजी द्वारा माता जगदम्बा से कही गई एक पवित्र कथा है। आप भी विस्तार पूर्वक पढ़े:
शिव-शक्ति श्रीराम मिलन (संपूर्ण भाग) 🌞

प्रश्न पूछने की विधि:

श्री हनुमान प्रश्नावली में सबसे उत्तम यही है कि इसमें प्रश्न पूछने के लिए कोई विशेष नियम नहीं है। आपको मात्र सच्चे मन से प्रश्न पूछना होता है। यहाँ प्रश्न पूछने के लिए हम आपको एक सरल सी विधि बता रहे हैं।

सर्वप्रथम भगवान श्रीराम जी को याद करें, उन्हें प्रणाम करें एवं मंत्र जपें “ॐ श्री रामाय नमः” इसके पश्चात श्री हनुमान जी को याद करके उनसे कहें कि

“हे श्री राम भक्त हनुमान जी! मैं आपको हृदय से याद कर रहा हूं, कृपया मेरे प्रश्न का उत्तर दें एवं स्वयं मेरा मार्गदर्शन करें।” 

ऐसा कहने के पश्चात अपने प्रश्न को अपने मन में तीन बार स्पष्ट शब्दों में दोहराएं। इसके पश्चात नीचे दिए गए त्रिभुजाकार यंत्र में (आंखें बंद करके करने का प्रयास करें) उंगली या सलाई रखें। जिस भी कोष्ठक में आपकी उंगली आती है, उस नंबर का उत्तर नीचे स्वयं ही आ जायेगा। इसके पश्चात मार्गदर्शन के लिए हनुमान जी का धन्यवाद करें।

वैसे तो इस प्रश्नावली का कोई विशेष नियम नहीं है, किंतु एक बात अवश्य याद रखें कि श्री हनुमान प्रश्नावली की परीक्षा लेने के उद्देश्य से प्रश्न ना पूछें तथा 1 समय में केवल 1 प्रश्न ही पूछें आपके द्वारा पूछे गए प्रश्न का उत्तर नीचे आ जायेगा। अर्थात आपके द्वारा जिस भी संख्या पर उंगली या सलाई रखी गयी है उसका फल आप नीचे देख सकते हैं।

यहाँ देखें: प्रश्नावली चक्र मे क्यों है हर समस्या का समाधान?


 40   49 
 12 
 02   34 
 13   41   15 
 16   43   18   46 
 01     20   48   22   23   29     11 
 31   26   32   14   35   30 
 17   33   19   44   21   47   45 
 36   04   42   06   37   08   39   10 
 27   25   24   03   05   28   07   38   09 

ये भी पढ़ें: श्रीराम नाम लेखन से क्यों मिलती है मन को शान्ति?

॥जय श्री राम॥

01 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका कार्य शीघ्र पूर्ण होगा।

मार्गदर्शन:
प्रश्न का फल देख कर परिश्रम करना कदिपि न छोड़ें। नित्य श्री हनुमान चालीसा का पाठ तथा शुभ कार्य करते रहें। जय श्री राम।

02 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपक कार्य पूर्ण होने में कुछ समय लगेगा।

मार्गदर्शन:
हर कार्य के होने का एक निश्चित समय होता है। कार्य अपने समय आने पर शुभ फल के साथ पूर्ण हो इसके लिए प्रार्थना करें एवं मंगलवार का व्रत अवश्य प्रारम्भ कर दें। जय श्री राम।

03 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका कार्य शीघ्र पूर्ण होगा किन्तु इसके लिए आपको हनुमान चालीसा का प्रतिदिन पाठ करना होगा।

मार्गदर्शन:
श्रद्धा एवं विश्वास के साथ प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर (यथासंभव स्नान करके) श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

04 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका कार्य पूर्ण नहीं होगा।

मार्गदर्शन:
इस कार्य का पूर्ण होना या तो आपके भाग्य में नहीं या आपके लिए उचित नहीं हैं। प्रयास करें कि दिन में दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। इससे आपको सन्मार्ग दिखाई देगा। जय श्री राम।

05 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका कार्य शीघ्र हो जायेगा, किन्तु इसके लिए आपको किसी अन्य व्यक्ति की सहायता लेनी पड़ेगी।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन हनुमान चालीसा का पाठ करें, शुभ कार्य करें एवं परिश्रम करते रहें। इससे किसी अन्य व्यक्ति के साथ साथ हनुमान जी का आशीर्वाद भी कार्य पूर्ण करने में आपका साथ देगा। जय श्री राम।

06 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि कोई व्यक्ति आपके कार्य के पूर्ण होने में बढ़ा उत्पन्न कर रहा है।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर, स्वच्छ वस्त्र पहन कर बजरंग बाण का पाठ करें। कार्य पूर्ण करने के लिए परिश्रम करते रहे। यदि बजरंग बाण के साथ साथ हनुमान चालीसा का भी पाठ करते हैं तो अति उत्तम होगा। जय श्री राम।

07 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका कार्य पूर्ण हो तो सकता है किन्तु आपको किसी स्त्री की सहायता लेनी पड़ेगी।

मार्गदर्शन:
दिन में दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। परिश्रम करना न छोड़ें। जय श्री राम।

08 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका कार्य नहीं होगा, कोई अन्य कार्य करें।

मार्गदर्शन:
इस कार्य को करने में अपना समय व्यर्थ न गवाएं। दिन में दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। इससे आपको सन्मार्ग दिखाई देगा। जय श्री राम।

09 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि कार्य पूर्ण करने के लिए आपको यात्रा करनी होगी।

मार्गदर्शन:
दिन में दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा एवं बजरंग बाण का पाठ करें तथा यात्रा के लिए तैयार रहें। यदि कार्य पूर्ण करने के लिए यात्रा करनी पड़े तो भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का नाम लेकर यात्रा करें। जय श्री राम।

10 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका कार्य पूर्ण तो होगा किन्तु उसके लिए आपको बताया गया उपाय करना होगा।

मार्गदर्शन:
मंगलवार का व्रत रखें, एवं हनुमान जी को चोला चढ़ाएं। प्रतिदिन प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

11 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपकी मनोकामना शीघ्र पूर्ण होगी, किन्तु इसके लिए आपको सुन्दरकाण्ड का पाठ करना होगा।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। प्रत्येक शनिवार एवं मंगलवार सुन्दरकाण्ड का पाठ करें। जय श्री राम।

12 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपके अत्यधिक शत्रु हैं। वे आपका कार्य नहीं होने देंगे।

मार्गदर्शन:
दिन में दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा एवं बजरंग बाण का पाठ करें। जय श्री राम।

13 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आप पीपल के वृक्ष की पूजा करें। एक माह बाद कार्य सिद्ध होगा।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन प्रातः स्नानादि करके सूर्योदय से पहले पीपल के वृक्ष पर जल चढ़ाएं, धूप दीप जलाएं एवं दिन में 2 बार हनुमान चालीसा का पाठ करें। इसी उपाय से 1 माह बाद आपका कार्य सिद्ध होगा। जय श्री राम।

14 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपको शीघ्र लाभ होने वाला है। किन्तु फिर भी आपको एक उपाय करना होगा।

मार्गदर्शन:
प्रत्येक मंगलवार को गाय को गुड़ एवं चना खिलाएं। जय श्री राम।

15 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका शरीर स्वस्थ रहेगा एवं चिंताएं दूर होंगी।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

16 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपके परिवार में वृद्धि होगी।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें एवं अपने माता-पिता की सेवा करें। साथ ही रामचरितमानस के बालकाण्ड का भी पाठ करें। जय श्री राम।

17 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि कुछ दिन चिंता रहेगी। बताया गया उपाय करें।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें एवं उसके पश्चात 1 माला “ऊँ हनुमते नम:” इस मंत्र की भी जपें, जय श्री राम।

18 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आप हनुमान जी के पूजन एवं दर्शन करें। इससे आपकी मनोकाना पूर्ण अवश्य होगी।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर मन्दिर जाएं एवं श्री हनुमान जी के दर्शन करें। यदि उनके सामने श्री हनुमान चालीसा का पाठ करना उत्तम रहेगा। मंदिर जाने का कोई एक समय प्रातः या सायं निश्चित कर लें। जय श्री राम।

19 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आप व्यवसाय करें इससे आपको लाभ होगा।

मार्गदर्शन:
दक्षिण दिशा में व्यापारिक संबंध बढ़ाएं। प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

20 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि शीघ्र ही आपको ऋण से छुटकारा मिलने वाला है, धन की प्राप्ति होने वाली है एवं सुख की उपलब्धि भी होने वाली है।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

21 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपको श्रीरामचंद्रजी की कृपा से धन मिलने वाला है। नीचे बताया गया उपाय आरम्भ कर दें।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्रीसीताराम जी के नाम ‘जय सियाराम’ की पांच-पांच माला करें। जय श्री राम।

22 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि अभी आपके मार्ग में बहुत सी बाधाएं हैं, किन्तु अंततः विजय आपकी ही होगी।

मार्गदर्शन:
विजय श्री का सन्देश पाकर परिश्रम करना न छोड़ें। परिश्रम करते रहे, सचरित्र रहे एवं प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

23 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका कठिन समय चल रहा है। इस कठिन समय में नीचे बताया गया उपाय अवश्य करें।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें एवं प्रत्येक मंगलवार को हनुमान मंदिर में जाकर चोला चढ़ाएं। संकटों से मुक्ति मिलेगी। जय श्री राम।

24 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका परिवार ही आपका विरोध कर रहा है। उन्हें अपने पक्ष में करने के लिए नीचे दिया गया उपाय करें।

मार्गदर्शन:
अपने कष्ट मिटाने के लिए पूर्णिमा का व्रत करें। साथ ही प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

25 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपको शीघ्र शुभ समाचार मिलेगा।

मार्गदर्शन:
शुभ उत्तर पाकर परिश्रम करना न छोड़ें। प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

26 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि प्रत्येक कार्य सोच समझकर करें।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

27 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपको स्त्री पक्ष से लाभ प्राप्त होगा।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन प्रातः स्नानादि से निवृत होकर दुर्गा सप्तशती का पाठ करें। जय श्री राम।

28 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि अभी कुछ महीनों तक कठिन समय रहेगा।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा एवं बजरंग बाण का पाठ करें। जय श्री राम।

29 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि अभी आपके कार्य के पूरा होने में समय लगेगा।

मार्गदर्शन:
धैर्य बनाये रखें। शुद्ध मन के साथ परिश्रम करते रहें। प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

30 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपके मित्र ही आपको धोखा दे देंगे।

मार्गदर्शन:
सोमवार का व्रत करते रहें। शुद्ध मन के साथ परिश्रम करते रहें। प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा एवं बजरंग बाण का पाठ करें। जय श्री राम।

31 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि संतान का सुख प्राप्त होगा।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर शिव जी की आराधना करें व शिवमहिम्नस्तोत्र का पाठ करें। जय श्री राम।

32 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपके शत्रु आपको सता रहे हैं।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर मंदिर में जाएं एवं पार्थिव शिवलिंग का पूजन करें। पूजा करके शिव ताण्डवस्तोत्र का पाठ करें। साथ ही प्रत्येक सोमवार किसी ब्राह्मण को भोजन कराएं। जय श्री राम।

33 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि सावधान रहें कोई महिला आपको धोखा देना चाहती है।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा एवं बजरंग बाण का पाठ करें। जय श्री राम।

34 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका कार्य पूर्ण होने में बाधा आपके भाइयों का विरोध ही है।

मार्गदर्शन:
प्रत्येक गुरुवार को व्रत रखें एवं प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा एवं बजरंग बाण का पाठ करें। जय श्री राम।

35 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपको नौकरी से लाभ होगा। पदोन्नति भी संभव है।

मार्गदर्शन:
पूर्णिमा को व्रत रख कथा कराएं। प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

36 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका शुभ समय आ गया है। यात्रा आपके लिए शुभ फलदायक होगी।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

37 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका पुत्र ही आपकी चिंता का कारण बन सकता है।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें, एवं 5 माला “राम” नाम का जप करें। जय श्री राम।

38 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपको अभी कुछ समय और परेशानी उठानी पड़ेगी।

मार्गदर्शन:
यथासम्भव दान एवं पुण्य करें। प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

39 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपको राजकार्यों और न्यायिक मामलों में सफलता मिलेगी।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री सीताराम का पूजन करें। जय श्री राम।

40 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि अतिशीघ्र आपको यश की प्राप्ति होगी।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें तथा 5 माला श्री राम नाम का जप करें। जय श्री राम।

41 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होगी।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

42 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि अभी आपका समय अच्छा नहीं है।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें तथा 5 माला श्री राम नाम का जप करें। जय श्री राम।

43 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपको अभी आर्थिक कष्ट का सामना करना पड़ सकता है।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें तथा 5 माला श्री राम नाम का जप करें। जय श्री राम।

44 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपको धन की प्राप्ति होगी।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

45 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपको दाम्पत्य सुख मिलेगा।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री सीताराम जी की पूजा करें तथा 5 माला श्री राम नाम का जप करें। जय श्री राम।

46 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपको शीघ्र ही संतान सुख की प्राप्ति होने वाली है।

मार्गदर्शन:
प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री सीताराम जी की पूजा करें तथा 5 माला श्री राम नाम का जप करें। जय श्री राम।

47 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि अभी दुर्भाग्य समाप्त नहीं हुआ है।

मार्गदर्शन:
श्री सीताराम जी की कृपा से आपको विदेश यात्रा से लाभ होगा। किन्तु विदेश यात्रा के शुभ फल के लिए प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें तथा 5 माला श्री राम नाम का जप करें। जय श्री राम।

48 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका अच्छा समय आने वाला है। आपको व्यावसायिक एवं सामाजिक क्षेत्र में लाभ मिलेगा।

मार्गदर्शन:
परिश्रम करते रहें। प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

49 संख्या का फल:
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी का सन्देश है कि आपका शुभफल देने वाला समय आ रहा है। आपकी प्रत्येक मनोकामना पूर्ण होगी।

मार्गदर्शन:
परिश्रम करते रहें। प्रतिदिन दो बार प्रातः एवं सायं शुद्ध होकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। जय श्री राम।

मुख पृष्ठ

 मुख पृष्ठ 

मुख पृष्ठ

अपना बिचार व्यक्त करें।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.