किष्किन्धाकाण्ड


॥ श्री गणेशाय नमः ॥
॥ श्री कमलापति नम: ॥
॥ श्री जानकीवल्लभो विजयते ॥
॥ श्री रामचरित मानस ॥
दान करें 🗳

मुख पृष्ठश्रीरामचरितमानसश्रीरामचरितमानस-पाठवाल्मीकि रामायणकिष्किन्धाकाण्ड

किष्किन्धाकाण्ड

अखंड रामायण
(भावार्थ सहित/रहित)
सब एक ही स्थान पर

किष्किन्धाकाण्ड भावार्थ सहित/रहित

किष्किन्धाकाण्ड

355AEF42-5A8B-494C-9E0B-429F33F5C2DD

अखंडरामायण के किष्किंधाकाण्ड में पम्पासरोवर पर स्थित राम से हनुमान का मिलन, सुग्रीव से मित्रता, सुग्रीव द्वारा बालि का वृत्तान्त-कथन, सीता की खोज के लिए सुग्रीव की प्रतिज्ञा, बालि-सुग्रीव युद्ध, राम के द्वारा बालि का वध, सुग्रीव का राज्याभिषेक तथा बालिपुत्र अंगद को युवराज पद, वर्षा ऋतु वर्णन, शरद ऋतु वर्णन, सुग्रीव तथा हनुमान के द्वारा वानर सेना का संगठन, सीतान्वेषण हेतु चारों दिशाओं में वानरों का गमन, हनुमान का लंका गमन, सम्पाति वृत्तान्त, जामवन्त का हनुमान को समुद्र-लंघन हेतु प्रेरित करना तथा हनुमान जी का महेन्द्र पर्वत पर आरोहण आदि विषयों का प्रतिपादन किया गया है। किष्किंधाकाण्ड से जुड़े सभी घटनाक्रमों की सूची नीचे दी गई है। आप सभी घटना के बारे में उस पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं।

यह स्वंय शिवजी द्वारा माता जगदम्बा से कही गई एक पवित्र कथा है। आप भी विस्तार पूर्वक पढ़े:
शिव-शक्ति श्रीराम मिलन (संपूर्ण भाग) 🌞

श्रीरामचरितमानस

⋖(किष्किन्धाकाण्ड भावार्थ सहित

श्रीरामचरितमानस पाठ

⋖(किष्किन्धाकाण्ड भावार्थ रहित

वाल्मीकि रामायण

⋖(किष्किन्धाकाण्ड भावार्थ सहित

10 thoughts on “किष्किन्धाकाण्ड

अपना बिचार व्यक्त करें।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.